Category Archives:  LifeStyle

साफ-सफाई करते वक्त डस्ट को इगनोर करना हो सकता है खतरनाक, इससे होती है ये गंभीर बीमारियां..

May 13 2019

Posted By:  AMIT

आप चाहें वर्किंग हो या हाउसवाइफ घर की डस्टिंग डेली रूटीन का हिस्सा होती है लेकिन हम लोग घर को साफ रखने के चक्कर में कई तरह की एलर्जी का शिकार हो जाते हैं | 10 मार्च को पुरे देशभर में ' Clean UP Your Room Day ' मनाया जाता है तो इस खास मौके पर जानते है धूल के सम्पर्क में आने से होने वाली एलर्जी और उससे बचने के खास तरीकों के बारे में-


क्या होती है एलर्जी
हमारे शरीर में धूल- मिट्टी से एलर्जी होना आम बात है देश में करीब 20 से 30 प्रतिशत लोग एलर्जी से पीड़ित है लेकिन वहीं अमेरिका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसे देशों में एलर्जी के मरीजों की संख्या 40 प्रतिशत से भी ज्यादा हैं |एलर्जी शरीर की ऐसी स्थिति है कि जब हमारा इम्यून सिस्टम कुछ खास चीजों को स्वीकार नहीं कर पाता है, जिसके कारण त्वचा पर लाल चकते- निशान निकलने के साथ-साथ नाक और आंख से पानी बहना, जी मचलाना, उल्टी होना या फिर सासों का तेज चलना और बुखार तक शामिल है इन बीमारियों में | 

किस कारण होती है एलर्जी 
एलर्जी किसी भी खाने की चीज, पालतू जानवर, मौसम में बदलाव, किसी भी फल-फूल सब्जी के सेवन, खुशुबू, धूल, धुआं, दवा या किसी भी चीज से हो सकती हैं |


धूल से कैसे होती है एलर्जी 
शोधकर्ताओं के मुताबिक, धूल के कणों में ऐसे कई माइक्रोब्स मौजूद होते है जो ' ह्यूमिडिटी ' की वजह से एलर्जी पनपती है, इन माइक्रोब्स से होने वाली एलर्जी में सामान्य तौर पर छींके, आंख वह नाक से पानी बहने जैसी दिक्क़ते शामिल होती हैं |

एलर्जी से ऐसे करें बचाव 
- बच्चों को एलर्जी से बचाने के लिए उन्हें धूल-मिट्टी और धुप से बचाने की जगह में खेलने दें, ऐसा करने से बच्चों में बीमारियों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता में सुधार होगा और धूल- मिट्टी में खेलने के बाद उनके हाथ पैर धुलवाना न भूलें |

- यदि आपको धूल- मिट्टी वह धुएं से एलर्जी है तो घर से निकलने से पहले अपनी नाक पर रुमाल बांध ले, यही बचाव एलर्जी का उपाय हैं | 


- यदि आपको गन्दगी की वजह से एलर्जी होती है तो समय-समय पर अपने बेड की चदर बदले और इसके साथ तकिये और पर्दे भी बदलते रहिए | 

- एलर्जी से पीड़ित लोगों को कभी भी कारपेट का यूज नहीं करना चाहिए, अगर घर को सजाने के लिए कारपेट का यूज भी करते है तो उसे कम-कम से 6 महीनें एक बार ड्राइक्लीन जरूर करवाए |


एलर्जी का पता लगाने के लिए करवाएं ये टेस्ट 
एलर्जी का पता लगाने के लिए 2 टेस्ट किये जाते है यह टेस्ट- स्किन पैच टेस्ट और ब्लड टेस्ट, माना जाता है कि स्किन पैच टेस्ट के नतीजे काफी हद तक सही होते हैं | जबकि ब्लड टेस्ट को वैज्ञानिक ज्यादा स्टिक नहीं बताते है स्किन पैच टेस्ट करवाने का खर्चा लगभग 8 से 10 हजार रुपए आता है और इस टेस्ट की सबसे बड़ी खासियत है इससे 60 अलग-अलग तरह की एलर्जी का पता लगाया जा सकता हैं |

आयुर्वेद में भी एलर्जी का इलाज 
- आयुर्वेद में भी एलर्जी का इलाज बताया गया है कि रोज सुबह निम्बू पानी पियें | 

- एलर्जी से पीड़ित लोगों को खट्टी और ठंडी चीजों से दूर-परहेज करना चाहिए |

- कई बार किसी दवा के सेवन करने से उसके साइडइफेक्ट या एलर्जी की शिकायत हो सकती है इसलिए दवा का सेवन हमेशा डॉक्टर से पूछकर करना चाहिए |

- अगर आपको स्किन एलर्जी है तो एलर्जी से प्रभावित हिस्से को फिटकरी के पानी से धो लें, इसके बाद उस जगह नारियल तेल में कपूर या जैतून के तेल में कपूर मिलाकर उस लगाए | ऐसे में चन्दन का लेप लगाने से भी काफी अच्छा असर होता है इसका उपाय करने से एलर्जी के साथ-साथ निशान भी दिखने कम हो जाते हैं |
  Share on Facebook   Share on Twitter
  सरकारी/गैरसरकारी नौकरीयो की ताजा अपडेट पाए अब अपने मोबाइल पर साथ ही रोजाना करंट अफेयर
Are you Looking for LifeStyle, You might like our below articles
Post a Feedback, Comment, or Question about this article