Category Archives:  Spiritual

भारत के इस चमत्कारी मंदिर में भगवान देते है साक्षात् दर्शन, पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है ये भव्य मंदिर...जानिए

Oct 23 2019

Posted By:  Sanjay

हमारे भारत देश में दुनिया के सभी धर्मो के लोग निवास करते है लेकिन सबसे ज्यादा हिन्दू धर्म के लोग रहते है | हिन्दू धर्म में बहुत से देवी देवताओं की पूजा की जाती है | पूरे देश में कई ऐसे मंदिर है जो अपनी संस्कृति और कलाकृति के लिए प्रसिद्ध है | आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारें में बताएँगे जहा भगवान स्वयं दर्शन देते है | भारत के इस ऐतिहासिक मंदिर को यूनेस्को ने विश्व धरोहर सूची में शामिल किया है इस मंदिर का नाम है कोणार्क मंदिर | कोणार्क का मतलब होता है कोना और आर्क का मतलब होता है सूर्य | ये मंदिर भारत के राज्य उड़ीसा में स्थित है | भारत के इस कोणार्क मंदिर में भगवान सूर्यदेव स्वयं दर्शन देते है और इस नज़ारे को देखने के लिए लोग देश विदेश से यहाँ आते है |


यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल है कोणार्क मंदिर 



उड़ीसा का ये कोणार्क मंदिर भारत का एक मात्रा ऐसा मंदिर है जहा सूर्य देव स्वयं दर्शन देते है | सूर्य के बिना सृष्टि का संचालन संभव नहीं नहीं है | इस मंदिर में भगवान सूर्यदेव स्वयं रोजाना दर्शन देते है | प्राचीन वास्तुकला से बना ये भव्य कोणार्क मंदिर यूनेस्को की विश्वधरोहर  सूची में शामिल है | 


ये कोणार्क मंदिर बहुत ही खूबसूरत बनाया गया है इस मंदिर के निर्माण में बारह जोड़ी वाले चक्रो, सात घोड़ो से खींचे जाने वाले सूर्यदेव भगवान के रथ को बनाया गया है | ये मंदिर अपनी कलाकृतियों और शिल्पकला के लिए बहुत ही फेमश है | इस मंदिर के कई भाग मुग़ल शासको ने ध्वस्त कर दिए है | ये पूरा मंदिर भगवान सूर्यदेव को ध्यान में रखकर ही बनाया गया है | साल 1255 में गंग वंश के राजा नृपसिंह ने 1200 कलाकारों की मदद से इस मंदिर का निर्माण करवाया था | इस मंदिर की वास्तुकला को बनाने में लगभग 12 साल का समय लगा था | इस कोणार्क मंदिर को 24 पहियों पर ख़ूबसूरती के साथ सजाया गया है और सात शक्तिशाली घोड़े इस रथ को खींचते हुए बनाये गए है |


बहुत ही भव्य और आकर्षक है ये मंदिर 


कोणार्क मंदिर को समुद्र तट से थोड़ी दूरी पर बनाया गया है | इस मंदिर की कलाकृति बहुत ही भव्य और शानदार है एक बार जो इस मंदिर की कलाकृति को देख ले वो देखता ही रह जाएगा | इस मंदिर में हर दिन भगवान सूर्यदेव की पूजा अर्चना की जाती है इस मंदिर के रथ के पहिये बहुत ही आकर्षक है | मंदिर के प्रत्येक हिस्से पर देवी देवताओं की प्रतिमाये बनी हुई है नृतकों के जीवन चरित्र को दर्शाया गया है यदि इस मंदिर के आकर्षक का प्रमुख केंद्र बना हुआ है | कोणार्क मंदिर के मुख्य द्वार पर दो शेर बने हुए है जो दो हाथियों को अपने नीचे दबाये हुए है और उन हाथियों के नीचे मनुष्य की दबी हुई प्रतिमाएं नजर आती है |
  Share on Facebook   Share on Twitter
  सरकारी/गैरसरकारी नौकरीयो की ताजा अपडेट पाए अब अपने मोबाइल पर साथ ही रोजाना करंट अफेयर
Are you Looking for Spiritual, You might like our below articles
राशिफल 14 जुलाई 2020: इन राशियों को मिलेगा बजरंगबली का आशीर्वाद, जानिए अपनी राशि का हाल...राशिफल 14 जुलाई 2020: इन राशियों को मिलेगा बजरंगबली का आशीर्वाद, जानिए अपनी राशि का हाल...
नवजात का शव समझ कर रहे थे पोस्टमॉर्टेम, सच्चाई सामने आयी तो उड़ गए होशनवजात का शव समझ कर रहे थे पोस्टमॉर्टेम, सच्चाई सामने आयी तो उड़ गए होश
अगर दिखाई दे ऐसे सपने तो समझ ले, आने वाला है गुड लक, जानिएअगर दिखाई दे ऐसे सपने तो समझ ले, आने वाला है गुड लक, जानिए
पाकिस्तान की जनता के दिलो पर राज करती है ये खूबसूरत एक्ट्रेसेस, हमारे देश में भी मशहूर...पाकिस्तान की जनता के दिलो पर राज करती है ये खूबसूरत एक्ट्रेसेस, हमारे देश में भी मशहूर...
दो बड़ी खबरे: अशोक गहलोत के करीबियों पर इनकम टैक्स की छापेमारी और हटाए गए सचिन पायलट के पोस्टरदो बड़ी खबरे: अशोक गहलोत के करीबियों पर इनकम टैक्स की छापेमारी और हटाए गए सचिन पायलट के पोस्टर
बॉलीवुड को लगा एक और झटका, अब इस एक्ट्रेस की हुयी कैंसर से मृत्युबॉलीवुड को लगा एक और झटका, अब इस एक्ट्रेस की हुयी कैंसर से मृत्यु
राशिफल 13 जुलाई 2020: इन 5 राशियों के लिए बेहद शुभ है सावन का दूसरा सोमवार, जानिए अपनी राशि का हाल...राशिफल 13 जुलाई 2020: इन 5 राशियों के लिए बेहद शुभ है सावन का दूसरा सोमवार, जानिए अपनी राशि का हाल...
राशिफल 12 जुलाई 2020: आज वृश्चिक राशि वालो को मिलेगा शुभ समाचार, जानिए बाकी राशियों का हाल...राशिफल 12 जुलाई 2020: आज वृश्चिक राशि वालो को मिलेगा शुभ समाचार, जानिए बाकी राशियों का हाल...
हँसते हँसते लोटपोट हो जायेंगे, जुगाड़ की ये तस्वीरें देखकरहँसते हँसते लोटपोट हो जायेंगे, जुगाड़ की ये तस्वीरें देखकर
Post a Feedback, Comment, or Question about this article